Computer Kya Hai – कंप्यूटर कैसे काम करता है? – Ttechnews

Computer Kya Hai – जैसा कि आप सब लोग जानते हैं कि हमारे जिंदगी में कंप्यूटर का कितना महत्व कंप्यूटर के माध्यम से सभी काम आसान हो गए है | Computer के माध्यम से ही सभी प्राइवेट कंपनी तथा सरकारी कंपनी में काम होता है|

कई तरह के काम को निपटाने के लिए घरों में भी कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है| घरों में भी कंप्यूटर के माध्यम से बच्चे अपनी study को कंप्लेंट करते हैं| इसके माध्यम से छात्राओं को अपनी पढ़ाई में विशेष सहायता मिलती है|

कंप्यूटर के माध्यम से हर तरह के स्कूल में एडमिशन प्रोसेस, स्कूल फीस डिटेल्स files बनाने के लिए तथा रेलवे स्टेशन पर ticket बुकिंग के लिए कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है| लेकिन आज के समय में भी बहुत लोग ऐसे हैं जिन्हें Computer Kya Hota Hai , or Computer Kaise Kaam Karta Hai इसके बारे में पूरी जानकारी नहीं पता है.

अगर आपको भी कंप्यूटर से संबंधित कोई भी प्रश्न है तो इस पोस्ट के माध्यम से आपके सभी प्रशन के उत्तर आपको मिल जाएंगे क्योंकि आज इस पोस्ट के माध्यम से हम Full Details Computer Kya Hai In Hindi बताने वाले हैं |

अगर आप इस पोस्ट को पूरा पढ़ते हैं तो आप के मन में कोई भी प्रश्न ऐसे नहीं होंगी जिनके जवाब हम को नहीं पता होंगे l तो चलिये जान्ते है Computer Kya Hai.

Computer Kya Hai In Hindi ( What Is Computer In Hindi ) –

कंप्यूटर एक स्वचालित करने वाली तथा निर्देशों का पालन करने वाले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है | कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है तथा एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो हमारे निर्देशों का पालन करती है | जो हमारे द्वारा कमांड दी जाती है वही कंप्यूटर में काम होता है.

Computer Kya Hai

Computer के माध्यम से हम किसी को भी ईमेल भेज सकते हैं तथा गेम खेल सकते हैं, किसी जरूरी दस्तावेजों को टाइप करने का काम किया जाता है| कंप्यूटर के जरिए हम अपने डाटा को store कर सकते हैं |

Computer में Exel के माध्यम से एक्सेल शीट में बैलेंस शीट, spread sheet तथा अलग अलग तरह की वीडियो बनाने के लिए भी computer का उपयोग किया जा सकता है |

कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जिसमे हम डाटा को स्टोर तथा data को प्रोसेस करने, किसी भी डाटा को रिसीव करने की क्षमता होती है |

>> CDN Kya Hai 

>> Whatsaap Web Kya Hai 

" क्या आप जानते हैं कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति कहां से हुई " -Computer शब्द की उत्पत्ति इंग्लिश के compute word से हुई है| आने वाले टाइम में कंप्यूटर का काम केवल गणना करने तक ही सीमित नहीं है,बल्कि इसके माध्यम से बहुत से व्यापार चलाए जाते हैं.

Computer का सीधा संबंध गणना करने वाले यंत्र से हैं | कंप्यूटर के अंदर बहुत सारे हाईएस्ट फीचर्स है जिनके कारण हमारे सभी काम आसान हो गए हैं, कंप्यूटर अपनी हाईएस्ट capacity storage, high Speed, Automation, Reliability, Capacity के कारण हर क्षेत्र में महत्वपूर्ण होता जा रहा है |

जैसा कि आप जानते हैं कोई भी काम करने में इंसान से तो गलती हो सकती है परंतु कंप्यूटर के काम में कोई गलती नहीं हो सकती है l आजकल सभी क्षेत्र में कंप्यूटर का उपयोग होता जा रहा है जैसे स्कूल, कॉलेज, इंस्टीट्यूट हॉस्पिटल, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड, फिल्मी जगत आदि| अगर हम Computer अर्थ की बात करें तो कंप्यूटर का अर्थ सीमित नहीं हो सकता है |

इसका उपयोग अलग व्यक्ति के काम के आधार पर अलग है | अलग-अलग कार्य के आधार पर कंप्यूटर के अर्थ भी बदलते रहते हैं |

Computer Definition In Hindi (कंप्यूटर की परिभाषा)  –

जैसा कि हमने आपको बताया कि कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जो हमारे सभी निर्देशों का पालन करता है |

कंप्यूटर एक ऐसी डिवाइस है जो इनपुट उपकरणों की सहायता से आंकड़ों को स्वीकार करता है| कंप्यूटर की परिभाषा यह है की यह user द्वारा दिए गए निर्देशों को लेता है, तथा फिर उन निर्देशों को प्रोसेस करता है तथा आउटपुट डिवाइस की मदद से प्रदर्शित करता है |

अगर कंप्यूटर में हम कोई भी गलत एंट्री करते हैं तो उसका परिणाम गलत ही शो होता है |

Father of computer ( Computer Ka Father Kon Hai ) –

कंप्यूटर के पिता चार्ल्स बैबेज को माना गया है, उन्होंने ही कंप्यूटर को बनाया था | सन 1833 में कंप्यूटर का आविष्कार किया गया था, इसलिए उन्हें कंप्यूटर का father कहा जाता है l

Full form of computer –

कई संस्थानों कंप्यूटर के नाम के जरिए इसकी डेफिनेशन को बनाया है कंप्यूटर की अलग-अलग तरह से व्याख्या की है जैसे-

  • C- Commonly
  • O- Operating
  • M- Machine
  • P- Particularly
  • U- Used in
  • T- Technology
  • E- Education
  • R- Research

Commonly Operating machines particularly used in technology education and research.

Computer Kya Hai आपने जान लिया, अब कंप्यूटर की विशेषताएं जानते है ।

Characteristics of Computer, कंप्यूटर की विशेषताएं –

जैसा कि हमने आपको बताया कि Computer के जरिए ही हमारे सारे काम होते हैं, इंसानों द्वारा किए जाने वाले काफी कामों को कंप्यूटर ने कम कर दिया है| कंप्यूटर की बहुत ही अच्छी विशेषताएं होने के कारण इसने इंसानों द्वारा किए जाने वाले बहुत से काम अब कंप्यूटर के द्वारा किए जाते हैं| जैसे –

1) Accuracy –

  • कंप्यूटर Gigo सिद्धांत पर कार्य करता है|
  • कंप्यूटर के काम के परिणाम इंसानो द्वारा किये गए कामों से ज्यादा होती है|

2) Speed-

  • Working Speed Of Computer किसी भी इंसान के काम करने की स्पीड से ज्यादा होती है|
  • यह बहुत से निर्देशों का पालन एक ही टाइम में पूरा कर सकता है|
  • कंप्यूटर के प्रोसेसर के एक यूनिट की गति दसियो लाख निर्देश प्रति सेकंड होती है(Millions of instructions Per second )
  • कंप्यूटर का निर्माण तीव्र गति से कार्य करने के लिए किया गया है |

3) Automation –

  • कंप्यूटर एक साथ बहुत से काम को बिना रुके कर सकता है|
  • इश्कि एक बहुत बड़ी खूबी है स्वचालिता |
  • कंप्यूटर एक स्वचालित मशीन भी है|

4) Versatility –

  • कंप्यूटर एक बहुउद्देशीय मशीन है जो एक साथ बहुत से आदेशों का पालन करता है|
  • इसके माध्यम से टाइपिंग, ग्राफ़िक वीडियो, ईमेल, दस्तावेज, रिपोर्ट आदि काम कर सकते हैं|
  • कंप्यूटर गणना करने के अलावा भी बहुत से कार्य करता है|

5) Communication –

  • एक कंप्यूटर मशीन अनेक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से बातचीत भी कर सकता है
  • Computer Network के जरिए डाटा को किसी दूसरे कंप्यूटर के साथ भी शेयर कर सकते हैं|

6) Reliability –

  • कंप्यूटर एक भरोसेमंद मशीन है जो लंबे समय तक काम करता हैं|
  • इसके सभी उपकरणों को आसानी से रखा जा सकता है |

7) Storage Capacity –

  • Computer Ki Memory बहुत लार्ज होती है, कंप्यूटर की इसी क्षमता के कारण कंप्यूटर कार्य की दोहराव से बचा जा सकता है |
  • कंप्यूटर डाटा भण्डारण करने के लिए किसी भी कागज का इस्तेमाल नहीं किया जाता है |

Different types of Computer –

हमने आपको कंप्यूटर से संबंधित सभी आधारित जानकारी दी है अब हम आपको बताते हैं कि Types Of Computer Kya Hai. आप जानते हैं कि जब भी कंप्यूटर के बारे में बात होती है तो सभी लोग Desktop या leptop के बारे में सोचते है |

कंप्यूटर का उपयोग बहुत से तरीकों में किया जाता है जैसे केलकुलेटर का इस्तेमाल करके, एटीएम से पैसे निकालने में, किराने की दुकान पर सामान को स्केच करते हुए इन सब चीजों में हम कंप्यूटर का उपयोग ही कर रहे हैं |

1) Desktop Computer –

ज्यादातर घरों में desktop Computer ही होता है| Desktop computer वह है जो टेबल पर रखने के लिए डिज़ाइन किया जाता है, आमतौर पर पहले ऑफिस और घरो में डेक्सटॉप कंप्यूटर का ही ज्यादा यूज किया जाता था |

परंतु अभी LED टाइप कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है | एलईडी टाइप कंप्यूटर रखने का यह फायदा होता है कि यह कम जगह में भी आप इंस्टॉल करके रख सकते हैं |

2) Laptop –

जैसा कि आप जानते हैं कि लैपटॉप को हम कहीं भी ले जा सकते हैं और कहीं पर भी बैठ कर अपना काम कर सकते हैं| यह कंप्यूटर बैटरी संचालित कंप्यूटर होता है, जो डेक्सटॉप कंप्यूटर से अधिक पोर्टेबल होता है| इस कंप्यूटर का यूज हम कहीं पर भी बैठकर कर सकते हैं| आसानी से कहीं पर भी ले जा सकते हैं|

3) Tablet –

यह एक हैंडहेल्ड कंप्यूटर है, यह लैपटॉप से भी अधिक पोर्टेबल कंप्यूटर होता है | इसके अंदर कीबोर्ड व माउस की बजाय टच नेविगेशन स्क्रीन होता है| इसके द्वारा भी आप कहीं पर भी बैठ कर काम कर सकते हैं कहीं पर भी ले जा सकते हैं इसके अंदर इंटरनल बैटरी पाई जाती है, जिसके कारण इसका बैटरी बैकअप भी होता है, बिना इलेक्ट्रिसिटी के भी हम 4 से 6 घंटे कम लैपटॉप पर काम कर सकते हैं |

4) Servers –

यह एक ऐसा कंप्यूटर है जिसे सरवर कंप्यूटर काहा जाता है, यह नेटवर्क के माध्यम से अन्य कंप्यूटर को जानकारी प्रदान करता है | इस कंप्यूटर का इस्तेमाल कई व्यवसायिक अंतरिक फाइल्स को स्टोर तथा शेयर करने के लिए फाइल सरवर का भी उपयोग करते हैं |

Parts of Computer ( कंप्यूटर के प्रकार ) –

जैसे कि ऊपर आपको जानकारी दी कि डेक्सटॉप कंप्यूटर वह होता है जिसे टेबल पर रख कर भी हम काम कर सकते हैं, पहले के टाइम पर यही कंप्यूटर यूज किए जाते हैं परंतु आज के टाइम में एलईडी कंप्यूटर या लैपटॉप कंप्यूटर यूज किए जाते हैं | कंप्यूटर को चलाने वाले जिन उपकरणों या पार्ट्स की जरूरत होती है उनके बारे में हम आपको जानकारी देंगे |

1) Monitor –

यह एक आउटपुट यूनिट है|यह बिल्कुल टीवी के जैसा दिखाई देता है, इसी पर कंप्यूटर के सभी प्रोग्राम देखे जाते हैं, आज के टाइम में इनकी जगह एलईडी स्क्रीन आने लगी है |

2) keyboard –

यह एक इनपुट यूनिट है, जो भी हम अपने कंप्यूटर में करना चाहते हैं या कुछ भी लिखना चाहते हैं वह हम कीबोर्ड की सहायता से कर सकते हैं| इसमें बहुत प्रकार की keys होती हैं| किसी के माध्यम से हम कंप्यूटर में कुछ भी लिख सकते हैं| या टाइप कर सकते हैं|

3) System Unit –

System unit को central processing unit भी कहा जाता है| सैमसंग मदरबोर्ड हार्ड डिस्क आदि अंतर होता है जिसमें मदर बोर्ड, हार्ड डिस्क आदि उपकरण लगे होते हैं जिसकी सहायता से हम कंप्यूटर पर सभी कार्य को कर पाते हैं| हार्ड डिस्क का उपयोग कंप्यूटर में डाटा सेव करने के लिए किया जाता है |

4) Mouse –

यह एक इनपुट उपकरण होता है जिसके द्वारा हम कंप्यूटर को निर्देश दे सकते हैं| Mouse की मदद से हम अलग-अलग कमांड दे सकते हैं, और अपने अनुसार कार्य कर सकते हैं| इसके उपयोग से एक कार्य करना सरल हो जाता है|

5) Printer –

इसका उपयोग कंप्यूटर में प्रिंट आउट निकालने के लिए होता है जो भी हम कार्य कर रहे हैं अगर हम कुछ दस्तावेज के रूप में अपने पास से रखना चाहते हैं तो हम प्रिंट आउट निकाल सकते हैं| इसे हम कंप्यूटर पर प्राप्त होने वाली सूचनाओं को हार्ड कॉपी भी कह सकते हैं | इसके अलावा जो कंप्यूटर में सेव हो जाती है उसे हम सॉफ्ट कॉपी भी कह सकते हैं|

7) Speaker –

यह भी एक इनपुट उपकरण है जो हमे आवाज सुनने में मदद करता है | इसकी सहायता से हम गाने, गेम, फिल्मो आदि की ध्वनि सुन सकते हैं| इसकी सहायता से हम आवाज कम ज्यादा भी कर सकते हैं |

History of Computer –

चार्ल्स बैबेज द्वारा बनाया गया यह एक इंजन है जिसके द्वारा हमारे सभी कार्य करने पॉसिबल होते हैं| आधुनिक कंप्यूटर ऐतिहासिक की देन है हम आपको Computer Ki History के बारे में संक्षेप में हम आपको जानकारी देंगे|

1) Abacus दुनिया का एक पहला ऐसा यंत्र था जिसकी सहायता से हम जोड़, भाग तथा किसी चीज की गणना कर पाते थे| इसका आविष्कार 2500 साल पहले हुआ था, इस उपकरण का उपयोग उत्पादों की गणना तथा भागफल जानने के लिए किया जाता था | इस डिवाइस द्वारा इस्तेमाल की गई विधि को रेबदोलाजी कहा जाता था|

2) सन 1642 में फ्रेंच वैज्ञानिक ने 18 वर्ष की आयु में व्यवहारिक यांत्रिक केलकुलेटर बनाया था|

3) Binary system भी इन्ही वैज्ञानिक द्वारा विकसित किया गया था| इसके बाद एडवांस मशीन Step RecKonerका आविष्कार किया गया, जो जोड़, भाग, जमा, घटा सभी कार्य करती थी|

4) सन 1804 में Joseph marie jacquard ने एक हथकरधा बनाया था जिसका नाम jacquard रखा गया था |

5) Father Of Computer charles babage ने यांत्रिक केलकुलेटर का आविष्कार किया था| इस कैलकुलेटर का नाम डिफरेंस इंजन था| जो भाप द्वारा चलती थी, इसके बाद Analytical इंजन का आविष्कार किया गया| इस इंजन को आधुनिक कंप्यूटर कहां जाता था|

6) Analytical engine के अंतर्गत CPU,STORE memory,Printer (input, output का काम करते थे | इसके बाद कंप्यूटर ने तेजी से विकास किया है, इसके बाद नयी नयी तकनीकों का इस्तेमाल किया गया था|

कंप्यूटर कोर्स करने के बाद कंप्यूटर नौकरियां –

हमें यकीन है कि आपको कंप्यूटर से संबंधित सभी जानकारी बहुत आसानी से समझ आ गई होगी l अब हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से यह बताने का प्रयास करेंगे, कि यदि आपने कोई कंप्यूटर कोर्स किया है या फिर कंप्यूटर में पढ़ाई की है तो आप किस तरह से अच्छे पैसे कमा सकते हैं l इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि Computer Course Karne Ke Baad Konsi Job Milegi.

जैसा कि आप जानते हैं कि आज के टाइम में Computer के ऊपर ही सभी नौकरियां निर्भर है| कंप्यूटर के द्वारा ही सारे कार्य किए जाते हैं सभी प्राइवेट कंपनी सरकारी कंपनी में कंप्यूटर के द्वारा ही सभी काम होते हैं| कंप्यूटर के द्वारा हम घर बैठे भी काम कर सकते हैं|

1) Computer typist

Computer Course Karne Ke Baad Typist Job भी कर सकते हैं, जैसे हमें पढ़ाई में लिखना भी आना बहुत जरूरी होता है उसी तरह कंप्यूटर में टाइपिंग भी बहुत जरूरी होती है| किसी भी सरकारी या प्राइवेट कंपनी में कंप्यूटर टाइपिस्ट की जॉब मिल जाती है इसमें data टाइपिंग करना होता है |

2) Data entry –

कंप्यूटर कोर्स करने के बाद किसी भी प्राइवेट या सरकारी कंपनी में Computer Data Entry Job आप कर सकते हैं, काफी कंपनी ऐसी होती है जो कंप्यूटर में एंट्री के हिसाब से तनख्वाह देती है, इस course के माध्यम से आप घर बैठे भी डाटा एंट्री का काम कर सकते हैं|

3) Computer Operator –

कंप्यूटर ऑपरेटर का काम सिर्फ कंप्यूटर को ऑपरेट करना ही नहीं होता बल्कि हर तरीके से कंप्यूटर पर काम करना होता है| यह कंपनी के काम पर ही नहीं बल्कि कंपनी द्वारा दी गई पोजीशन पर निर्भर करता है.

किसी होटल में आप होटल रिसेप्शन, रेलवे स्टेशन पर टिकट बुकिंग का काम भी कर सकते हैं | कंप्यूटर ओपेरटर Course को करने के बाद आप किसी भी कॉल सेंटर में कॉल management का भी काम कर सकते हैं |

4) Computer teacher –

कंप्यूटर कोर्स करने के बाद यह जरुरी नहीं है कि आप किसी कंपनी में जॉब कर सकते हैं इसके माध्यम से आप किसी भी कॉलेज किसी भी इंस्टिट्यूट तथा किसी भी स्कूल में अध्यापक के रूप में नौकरी कर सकते हैं| कंप्यूटर course करने के बाद आप Computer Teacher के रूप में भी अपना कैरियर बना सकते हैं|

5) Game Developer

गेम डंपर का काम किसी भी गेम को बनाना होता है l Computer course को करने के बाद आप गेम डेवलपर कि जोब भी कर सकते हैं, website पर मनोरंजन को बढ़ाते हुए गेम बनाई जाती है |

6) Hardware engineer –

Computer कोर्स करने के बाद आप हार्डवेयर इंजीनियर की जॉब भी कर सकते हैं इसमें कंप्यूटर से रिलेटेड सभी समस्याओं को हल करना होता है, इसमें कंप्यूटर इसमें यह जानना होता है कि कंप्यूटर में कौन सा पार्ट कहां पर लगेगा, कैसे डिजाइन होगा.

Computer में अगर कोई भी बदलाव होता है तो तो उसकी जांच का कार्य भी हार्डवेयर इंजीनियर की सहायता से ही होता है, कंप्यूटर के अंदर जो भी Ram होती है, mother board लगा होता है इन सब कार्यों को हार्डवेयर इंजीनियर ही संभालता है |

7) Web designer –

वेब डिजाइनिंग का मतलब होता है किसी भी website को अच्छी तरीके से डिजाइन करना, jaise उसके कलर, बटन सेटिंग, थीम design, users के लिए नेविगेशन आदि काम में उपयोग किया जाता है| यह सब काम graphic टूल की सहायता से किया जाता है |

जब किसी डिजाइन को एक web developer website में जोड़ दिया जाता है तो तभी वेबसाइट बनती है, इसमें सारा काम एक अकेला व्यक्ति ही देखता है |

What is php in hindi

निष्कर्ष – 

इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपको कंप्यूटर से रिलेटेड सभी जानकारियां उपलब्ध कराई है Computer Kya Hai, Computer Kya Hota Hai, Computer Ki History In Hindi, कंप्यूटर के कोर्स कौन कौन से होते हैं.

कंप्यूटर कोर्स को करने के बाद आप किस तरह की जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैं,कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया है | आशा करते हैं आपको हमारी यह पोस्ट अच्छी लगी होगी प्लीज कमेंट सेक्शन में कमेंट करके जरूर बताएं |

धन्यवाद |

4 thoughts on “Computer Kya Hai – कंप्यूटर कैसे काम करता है? – Ttechnews”

Leave a Comment

error: Content is protected !!