ATM Full Form In Hindi – ATM कैसे काम करता है – Ttechnews

इस आर्टिकल में हम ATM Full Form के बारे में बताएँगे। आज के समय में ATM kya hai ? इसके बारे में सब लोग जानते है अगर आप इसके बारे में अधिक जानना चाहते है तो आप हमारे साथ जुड़े रहिये ताकि आप भी हमने इस लेख में जो जानकारी दी है इसके बारे आप ज्यादा से ज्यादा जान सके।

ATM का Full Form क्या है सिर्फ यह जानना जरुरी नहीं है इसके साथ ATM के बारे में हम अधिक जानकारी देंगे। ATM ऐसा यंत्र है जिसके इस्तेमाल से सब लोगो के कार्यो को आसान कर दिया है और बहोत सारा समय बर्बाद होने से बचाता है।

एटीएम के इस्तेमाल करने से सबको पैसे निकालने के लिए bank में जाना नहीं पड़ता और इसके साथ किसी भी तरह के कागजी कार्यवाही नहीं करनी पड़ती। और इससे समय भी बच जाता है।

वर्तमान समय में करीबन 80% लोग एटीएम से ही पैसे निकालते है बाकि लोग इस्तेमाल नहीं कर सकते क्योकि वह गांव में रहते है और गांव में ATM की सुविधा उपलब्ध नहीं है। यह कार्य स्पीड से करने के लिए गांव में भी ATM सेवा को उपलब्ध कराया जाये तो बाकि सभी परेशानियों  किया जा सकता है।

ATM के इस्तेमाल करने की बात की जाये तो bank हमें debit/credit card प्रदान करती है, जिसको हमे ATM के अंदर डालने के बाद आपके पिन को डालना पड़ता है, इसके बाद आपको जितने पैसे निकलना चाहते है इतने पैसे आप type करे और ओके करने के बाद कुछ ही सेकण्ड में पैसे एटीएम से बहार आजायेंगे। यह तरीका बहुत ही सरल है। ATM से पैसे निकालना सबसे अच्छा तरीका है और इसका 24 घंटे इस्तेमाल कर सकते है।

अब बैंक से पैसे निकालने की बात की जाये तो बैंक में कागजी कार्यो में ही समय बर्बाद हो जाता है और बैंक पुरे दिन यानि की 24 घंटे ओपन नहीं होती इसकी वजह से आपको अगर अर्जन्ट पैसो की जरूरत पड़ने पर परेशान हो जाते है और बैंक में कागजी कार्यवाही करने में ही काफी समय बर्बाद हो जाता है।

एटीएम की बात की जाये तो आपको अर्जन्ट पैसे की जरुरत पड़े तो आप निकाल सकते है जैसे की आपके debit/credit card जो भी इस्तेमाल करते है इसकी मदद से आप तुरंत पैसे निकाल सकते है।

debit/credit card जिसको आप ATM से पैसे निकालने के लिए इस्तेमाल करते है इसको आप Online Shopping / Recharge जैसे कामो में इस्तेमाल कर सकते है और आपको दुकान पर भी जाने की जरुरत नहीं है।

ATM ka Full Form – ( What Is The Full Form Of ATM )

ATM का पूरा नाम की बात करे तो इसको Automated Teller Machine कहा जाता है। इसको थोड़ा विस्तार से जाने तो एटीएम को हम निचे दिए गए शब्दों में देख सकते है।

ATM Full Form

  • A – Automated
  • T – Teller
  • M – Machine

ATM के दूसरे नाम –

ATM दूसरे Full Form के बारे में अगर आप जानना चाहते है तो निचे देख सकते है।

  1. Air traffic Management
  2. Asynchronous Transfer Mode
  3. Association of Teachers of Mathematics
  4. Angkatan Tentera Malaysia
  5. Altamira Airport

ATM क्या है? – ( What Is ATM In Hindi )

ATM एक electronic telecommunications device है। एटीएम का इस्तेमाल सभी लोग पैसे निकालने और Fund Transfer अन्य किसी  बैंक के एटीएम से किसी भी समय लेनदेन के लिए करते है।

atm की यह सुविधा बहुत ही आसान और Automatic होने से बैंक के कर्मचारियों की आवश्यकता नहीं होती और हम जब चाहे और जितने चाहे खुद के अकाउंट से पैसे निकाल सकते है।

ज्यादातर लोग Plastic atm card का इस्तेमाल करके खुद के अकाउन्ट तक पहुँच सकते है। एटीएम कार्ड में Magnetic strip पर खाताधारक की जानकारी अलावा Encoded होता है।

atm card Strip में एक  Identification Code होता है जिसको bank के Central Computer पर Modem के माध्यम से दिखाया जाता है।  एटीएम मशीन में atm card डालकर सभी लोग आसानी से पैसे निकालते है।

ATM का फुल फॉर्म हिंदी में –

हमने  ATM का Full Form english में जाना। कई लोग यह जानने की कोशिश करते है की एटीएम को हिंदी में क्या कहते है। आप एटीएम का पूरा नाम हिंदी में निचे देख सकते है।

  • ए – स्वचालित
  • टी – टेलर
  • म – मशीन

ATM के Parts क्या हैं – Type of ATM In India?

अब हम ATM Parts के बारे में बात करे तो इसके दो पार्ट होते है जिसको हम निचे विस्तार से जानेंगे।

  1. Input Device :

Card Reader : –  Input Device में Card Reader ATM Card के data यानि की अकाउंट की जानकारी रखता है। वह आपके एटीएम कार्ड के पीछे के हिस्से की Magnetic Strip पर संग्रहित करता है। और इसको Verification के लिए Server पर भेजता है और अकाउंट की जानकारी और User Service से हांसिल आदेशों के आधार पर पैसे निकालने की अनुमति देता है।

Keypad:- कीपेड में आपको पिन डालने के बाद कितनी नकद निकालनी है और अन्य सेवाएं जैसे की cancel, clear, enter यह सभी को Input Device अनुमति देता है।

  1. Output Device :

Screen: – स्क्रीन का इस्तेमाल अकाउंट सबंधी जानकारी जैसे की खाताधारक का नाम , पेमेंट यह सभी को दर्शाता है इसके साथ आपके लेनदेन को आसानीसे पूरा करता है।

Speaker: –  ज्यादातर एटीएम Speaker मौजूद होते है जब आप पैसे निकालते है तब यह Audio Feedback प्रदान करता है।

Cash dispenser : –  Device ATM का सबसे महत्वपूर्ण output device में से एक है जिसका इस्तेमाल पैसे निकालने के लिए किया जाता है।

Receipt printer : – यह डिवाइस आप जब लेनदेन करते है तब आपको एक कागजी प्रिंट प्रदान करता है जिसमे कितने पैसे निकाले , कितने पैसे बचे , date , time स्थान यह सब.

यह आपके लेन-देन से संबंधित एक रसीद प्रदान करता है जिसमें निकासी राशि, शेष राशि, दिनांक, समय, स्थान आदि शामिल होते हैं.

ATM कैसे काम करता है –

ATM के काम की बात करे तो आपको इसके इस्तेमाल के लिए एटीएम मशीन के अंदर आपको plastic atm card को डालना पड़ेगा। जब आप मशीन के अंदर card drop करेंगे तो आपको मशीन कार्ड को स्वैप करने की अनुमति देता है। जैसे की ATM Card में एक Magnetic पट्टी जैसे आपको आपके अकाउंट की सुरक्षा और जानकारी के बारे में बताता है।

इसके बाद जब आप मशीन के अंदर card Drop/Swap करते हैं तो atm को आपके अकाउंट की सारी जानकारी प्रदान पता करता है और अच्छी तरह Authentication करने के बाद एटीएम मशीन आपको Transaction करने की अनुमति देता है।

ATM के प्रकार –   Type Of ATM

अब हम एटीएम के कितने और कोनसे प्रकार होते है इसके बारे में बात करेंगे।

  1. Online ATM :

Online ATM bank के database से 24 घंटे यानि की पूरा समय जुड़ा रहता है। इस एटीएम से आपके अकाउंट की शेष राशि से ज्यादा आप पैसे नहीं निकाल सकते।

  1. Offline ATM :

Offline एटीएम की बात की जाये तो यह  bank के database से जुड़ा नहीं होता और आपके पास अकाउंट में राशि नहीं है तो आप इसमें से पैसे नहीं निकाल सकते और यह गलती करने पर आपको bank में जुर्माना भी देना पड़ सकता है।

  1. On-Site ATM :

On Site ATM को bank के परिसर में रखा जाता है और इसको ऑनसाइट एटीएम रूप में पहचाना जाता है।

  1. Off Site ATM :

bank के अंदर कई जगह पर रखे हुवे एटीएम को Off Site ATM के रूप में पहचाना जाता है।

  1. White Label ATM :

Non-Banking Financial Companies के माध्यम से स्थापित किया गया एटीएम को White Label ATM के नाम से पहचाना जाता है।

  1. Yellow Label ATM:

यलो लेबल एटीएम को E-Commerce reasons के लिए स्थापित किया गया है।

  1. Brown Label ATM :

Brown Label एटीएम के hardware और atm मशीन की पट्टी पर एक Service Provider का Ownership दीखता है परन्तु बैंकिंग नेटवर्क के लिए कैश मैनजमेंट और Connectivity bank के माध्यम से दी जाती है।

  1. Orange Label ATM :

Orange Label ATM को Share Transaction के लिए स्थापित किया गया है।

  1. Pink Label ATM :

Pink Label एटीएम का इस्तेमाल सिर्फ महिलाये कर सकती है।

  1. Green Label ATM :

Green Label ATM का इस्तेमाल कृषि विभाग वाले लोगो के लिए स्थापित है।

निष्कर्ष –

हमें उम्मीद है की मेरा atm full form का आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। मेरी यह पूरी कोशिश रही की मेने आपको ATM Full Form in Hindi के बारे में अच्छी तरह से जानकारी प्रदान की। क्योकि इस आर्टिकल में मेने आपको ATM kya hai ? यह पूरी तरह से समझाया।

आपको हमारा यह एटीएम फूल फॉर्म पढ़कर दूसरे कोई स्थान पर सर्च करने की आवश्यकता नही पड़ेगी क्योकि आपको यहाँ पर एटीएम के प्रकार और  सभी चीजों के बारे में अच्छे से जानकारी प्रदान की है और समझाया है। अगर आपको अभीभी किसी भी प्रकार का  doubts हैं तो मुझे कमेंट करके बता सकते हो और अपने दोस्तों को शेयर जरूर कर सकते हो। धन्यवाद।

इस के बारे में भी जानिए –

Leave a Comment

error: Content is protected !!