WHO Kya Hai – डब्ल्यूएचओ का मुख्यालय कहां है? – Ttechnews

क्या आपको पता है की who kya hai ? अगर नहीं तो आप हमारे इस लेख को पढियेगा ताकि आपको पता लगे की who क्या है ? और यह किस तरह से काम करता है। और यह दुनिया की स्वास्थ्य से जुडी समस्याओ को कैसे दूर करता है।

कई लोग यह भी नहीं जानते की who ka full form kya hai ? तो हम यह भी आपको आर्टिकल की मदद से सारी जानकारी देंगे।
दुनिया का सारा धन और सुख , सुविधाएं स्वास्थ्य के बिना कुछ नहीं है। इसलिए विश्व का हर व्यक्ति को स्वास्थ्य अच्छा होना जरुरी है।

वर्तमान समय में अपनी राजमर्रा कामो की वजह से अपने स्वास्थ्य को ठीक नहीं रख पाते और अपनी हैल्थ पर ध्यान नहीं देते इसकी वजह से लोगो की बीमारिया बढ़ जाती है और कई नयी-नयी बीमारियों का शिकार बन जाता है।

who विश्व स्वास्थ्य संगठन के नाम से भी जाना जाता है। यह काफी मदद करता है यह संगठन सभी देशो और बड़े प्रदेशो में जाकर लोगो को कई जानलेवा बीमारिको का शिकार बनने वाले लोगो की सहायता करता है और लोगो को जागरूक करता है।

WHO Kya Hai

who सभी देशो को मदद करता है उनको कई तरह की अन्य मदद भी करता है। चलिए हम आपको who kya hai in hindi में पूरी जानकरी देंगे। तो आप हमारा यह लेख पूरा पढियेगा।

who kya hai –

who विश्व स्वास्थ्य संगठन है यह एक ऐसी संस्था है जो दुनिया के सभी देशो को स्वास्थ्य सम्बंधित परेशानियों में सहायता करता है और आपसी सहयोग देता है, और मनुष्य को स्वास्थ्य सबंधित विकसित और जागरूक करता है। who का मुख्य कार्य पुरी दुनिया के लोगो को बेस्ट स्वास्थ्य भविष्य देना और स्वास्थ्य जुडी मदद और मजबूत और बहेतर बनाना है।

WHO के 194 देश सभ्य है और 2 सम्बध्य सभ्य है। इण्डिया भी WHO का एक मुख्य सभ्य देश है। who पूरी दुनिया में प्रचलित है। WHO के पास दुनिया का सबसे बड़ा Blood Bank है। दुनिया की कई बीमारीया जैसे की हैजा, मलेरिया, चेचक, वायरस यह सभी बीमारियों को रोकने और इसको दूर करने के लिए WHO का महत्वपूर्ण योगदान रहता है।

WHO Ka Full Form Kya Hai –

कई लोगो के मनमे यही सवाल आता है की WHO Ka Full Form Kya Hai ? तो आपको बता दे की WHO का पूरा नाम World Health Organization के नाम से जाना जाता है और WHO को हिंदी में विश्व स्वास्थ्य संगठन से भी पहचाना जाता है।

WHO Ke Bare Me Jankari –

दुनिया में स्वास्थ्य से जुडी समस्याओ के लिए WHO जाना जाता है। WHO की स्थापना 7 अप्रैल साल 1948 में हुई थी। यह स्वास्थ्य संगठन संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम यानि की UNDP का सभ्य है।

WHO की राजधानी स्विटज़रलैंड के जिनेवा शहर में है। WHO के आज के समय में अध्यक्ष टेड्रोस एडहानॉम घ ब्रेयसस है। इण्डिया भी who का एक सभ्य देश है। इण्डिया में भी who का मुख्यालय नै दिल्ही में है।

WHO Kya Kaam Karta Hai? –

WHO का मुख्य कार्य दुनिया के लोगो को बेहतर स्वास्थ्य प्रदान करना है। who 150 से भी ज्यादा देशो में कार्यालय की मदद से कार्य करता है और लोगो तक अपनी सेवाएं पहुंचता है।

WHO संक्रमित बीमारियों से हमें दूर रखने की कोशिश करता है जैसे की HIV , AIDS, इंफ्लुएंजा, कैंसर, और हृदय रोग जैसी भयंकर बीमारियों से छुटकारा देने में महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करता है।

WHO स्वास्थ्य सेवाओं को विकसित और मजबूत करने के लिए सरकार की भी मदद करता है। यह संगठन प्रशासनिक और तकनीकी सेवाओं की रख रखाव करता है जैसे की महामारी, विज्ञान और सांख्यिकीय जैसी अन्य सेवाएं भी प्रदान करता है।

WHO स्वास्थ्य कार्यो के साथ-साथ सामाजिक, आर्थिक, और पर्यावरणीय कारको की भूमिका को रेखांकिंत करने का कार्य भी करता है। .इसके अलावा पोषण, आवास, स्वच्छ्ता जैसे कार्यो में भी यह भूमिका निभाता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन का वैश्विक योगदान – WHO’s Contribution to World

Country Offices – देशीय कार्यालय :

देशीय कार्यालय से देश के साथ सबंधित सरकार और स्वास्थ्य संगठन के बिच की प्राथमिकता का संपर्क स्थान है। यह स्वास्थ्य के साथ-साथ तकनीकी मदद और प्रासंगिक वैश्विक मनको को साझा करता है और सरकार के अनुरोधों और जरूरी मांगो को WHO के दूसरे स्तरों पर पहुँचाने करता है।

  • WHO अन्य देश की बीमारी के फैलने की सुचना मिलने पर यह सरकार को सूचित करने के साथ- साथ यह साथ देकर मदद भी करता है।
  • WHO देश में स्थित अन्य संयुक्त राष्ट्रो की एजेंसियों के कार्यालयों को हैल्थ पर सलाह और सही मार्गदर्शन देकर सही सलाह प्रदान करता है।
  •  खुद अन्य संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों प्रदाताओं, गैर-सरकारी संगठनों – NGO और अन्य कई निजी कंपनियों के साथ मिलकर समन्वय क्षेत्र स्थापित करता है।
  • WHO के अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवाओं में कई देश को लाभ मिला है इसमें विकसित देश भी शामिल है चेचक , क्षय जैसे कई बढे भयंकर रोगो को नियंत्रित करने में WHO ने बहुत सहायता की है।
  • WHO के मतानुसार बचपन के 6 मुख्य संक्रामक रोग मानता है जिसमे – डिप्थीरिया, खसरा, पोलियोमाइलाइटिस, टिटनेस, क्षय रोग एवं काली खाँसी शामिल है।
  •  संयुक्त राष्ट्र बाल कोष यानि की UNICEF के मदद से सभी बच्चों के लिये सुनिश्चित , विश्वव्यापी , प्रभावी अभियान का नेतृत्व कर रहा है।

WHO की ऐतिहासिक यात्रा –

WHO ने अपनी स्थापना के समय साल 1948-58 में विकासशील देशो के कई भारी संख्या के लोगो को प्रभावित करने वाले मुख्य संक्रामक बीमारियों पर मुख्य ध्यान दिया था। साल 1958 से 1968 के समय में अफ्रीका देश में कई उपनिवेश स्वतंत्र हुए जो कुछ समय बाद संगठन के सभ्य बन गए।

WHO ने साल 1960 के समय में World Chemical Industry के साथ मिलकर काम किया इसकी वजह यह थी की River blindness , OR Schistosomiasis के रोगवाहक से लड़ने के लिए नई किट नाशक दवाइया विकसित सके।

रोग और मृत्यु के कारणों की नामपद्धति का वैश्विक नामकी करण करना अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य संचार में WHO का महत्वपूर्ण स्थान है।
WHO की स्थापना के साल 1968-78 के समय में विश्व में चेचक भयंकर रोग के सामने बड़ी सफलता हांसिल की।

साल 1967 के समय तक 31 देशों में चेचक स्थानिक रोग हो चूका था। चेचक रोग से करीबन 10 से 15 मिलियन लोग प्रभावित हुवे थे।
WHO के नेतृत्व और समन्वय में कई सारे देशो में सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओ की टीमों की सहायता से यह विषय पर कार्य किया गया था।

यह बड़े स्तर पर किया गया अभियान की मदद से वैश्विक स्तर पर संक्रमित करने वाले 6 रोगो जैसे की ….डिप्थीरिया, टिटनेस, काली खाँसी, खसरा, poliomyelitis , क्षय जैसे रोगो के प्रति BCG वैक्सीन के साथ इसको दूर किया।

WHO ने राजनैतक कारणो की वजह से लंबे समय बाद वर्तमान समय में यह संपूर्ण मानव प्रजनन अनुसंधान और विकास को मदद और सहयोग देकर यह परिवार के क्षेत्र तक पहुंच चूका है। WHO मलेरिया और कुष्ठ रोग को कंट्रोल में करने के लिए भी इसने कई प्रयास किये है।

WHO की स्थापना के 1978-88 साल में यूनेस्को के एक बृहद वैश्विक सम्मेलन सोवियत संघ के एशियाई क्षेत्र में स्थित Alma Ata शहर में आयोजित किया गया था।

Alma Ata शहर में मिला हुवा सम्मेलन में प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल, निवारक और उपचारात्मक उपायों के महत्त्व को सहायता दी गई थी। यह सम्मेलन में सामुदायिक भागीदारी पर बल दिया गया , तकनीक और अंतर्क्षेत्रीय मदद करना ऐसी कई निति को केंद्र में रखकर इसको केंद्रीय स्तंभ बनाया।

WHO की स्थापना के 30 सालो के बाद 134 देश समान प्रतिबद्धताओं की पुष्टि की और इसके ध्येय वाक्य Health for All में सन्निहित है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा साल 1980 में सभी के लिये सुरक्षित पेयजल और पर्याप्त उत्सर्जन निपटान के प्रावधान हेतु की गई ‘अंतर्राष्ट्रीय पेयजल आपूर्तिऔर स्वच्छता साल 1981-90 की घोषणा WHO के द्वारा की गई थी।

इस समय में हर देश को वैश्विक बाज़ारों में मिलनेवाले हजारों ब्रांड के उत्पादों के बजाय सभी सार्वजनिक सुविधाओं में इस्तेमाल के लिये जरुरी मेडिसिन की एक सूची विकसित करने के लिये प्रोत्साहित किया गया था।

Oral rehydration therapy की मदद से संपूर्ण विश्व में बच्चो में होने वाली डायरिया नामके रोग पर कंट्रोल पाना यह बड़ी सफलता है और यह बड़े सरल सिद्धांतो पर आधारित है।

Network :

साल 1995 कांगो में Ebola virus का प्रकोप बढ़ गया था। जिसको WHO ने फ़क्त तीन मास में वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य निगरानी और अधिसूचना प्रणालियों की एक बड़ी चौंकाने वाली कमी का खुलासा किया।

साल 1997 में WHO ने Canada के साथ मिलकर GPHIN यानि की Global Public Health Intelligence Network को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिए इंटरनेट तकनीक का इस्तेमाल किया गया था।

WHO ने साल 2000 में GPHIN को GOARN यानि की Global Outbreak Alert Response Network के साथ घटनाओं का विश्लेषण करने के लिये जोड़ दिया गया।

GOARN ने 120 Network और संस्थानों को किसी भी परेशानी को जल्द ही मिटाने के लिए डेटा प्रयोगशालाओं, कौशल और अनुभव के साथ जोड़ा गया।

WHO द्वारा किये गए अन्य प्रयास :

WHO ने Cancer से लोगो को बचाने के लिए उनके प्रयासों में कई प्रकार की वृद्धि कर दी है और यह Cancer समृद्ध राष्ट्रों की तरह आज के समय में विकासशील देशों में भी पाया जाता है।

पुरुषों और महिलाओं दोनों में तंबाकू मौतों का सबसे बड़ी वजह है। इससे होने वाली मृत्यु को रोकने के लिए WHO के माध्यम से हर देश में तंबाकू के सेवन पर प्रतिबंध लगाने का प्रयास कर रहा है।

AIDS विश्वव्यापी घातक यौन संचारित वायरस है। यह वाइरस को रोकने के लिए बढ़ते वैश्विक प्रयास के बिच WHO के लिये यह भी एक बड़ी चुनौती है। WHO HIV से पीड़ितों के लिए स्व-परीक्षण की सुविधा पर कार्य कर रहा है। जिसकी वजह से HIV पीड़ित लोग उनकी स्थिति का पता चल सके और वह सही समय पर उपचार कराव सके।

निष्कर्ष –

उम्मीद है की हमारा यह आर्टिकल who kya Hai ? इसकी जानकरी आपको पसंद आयी होगी। हमने आपको who works, who ka full form kya Hai ? यह सब बताया।

हमारी कोशिश यह थी की स्वास्थ्य सम्बंधित यह संस्था जो हम WHO के नाम से पहचानते है इससे जुडी कुछ महत्वपूर्ण जानकारिया आप तक पहुँचाये। जो हमने आपको पहुंचा दिया। अब आपको यह जानकरी पसंद आयी हो तो आप भी अपने दोस्तों तक पहुंचा सकते हो और इससे जुड़े कुछ भी प्रश्न हो तो हमें कमेंट करके बताये।

Leave a Comment

error: Content is protected !!